फिरोजाबाद: इस दुनिया में जो भी जन्म लेता है, वह एक ना एक दिन मरता भी जरुर है. कहते हैं मृत्यु के बाद शरीर से आत्मा निकल जाती है और परलोक पहुँच जाती है. हिन्दू धर्म के अनुसार यमराज को प्राणहरता के नाम से जाना जाता है. यमराज ही इंसान को मृत्यु प्रदान करते हैं. परंतु वह किसी भी इंसान को साथ लेजाने से पहले उसको कुछ अंतिम संकेत देते हैं ताकि वह अपने कामों और जिम्मेदारियों से फारिग हो सके. लेकिन, हम इंसान यमराज के संकेतों को पहचान नहीं पाते और कोई अंतिम इच्छा लेकर ही मृत्यु के समीप पहुँच जाते हैं.

हालाँकि, साइंस ने बहुत तरक्की कर ली है लेकिन, फिर भी आज तक कोई इस बात का पता नहीं लगा पाया कि मरने के बाद इंसान की आत्मा कहाँ जाती है. मगर हाल ही में हुई एक घटना ने सबको आश्चर्य में डाल दिया है. दरअसल, फिरोजाबाद में कथित रूप से मृत और फिर जिंदा हुए एक बुजुर्ग की कहानी इन दिनों चर्चा का बिषय बनी हुई है. जानकारी के अनुसार बजुर्ग की मृत्यु कुछ दिन पहले हो गई थी मगर वह दोबारा जिंदा हो गया. जिसके बाद से ही उन्हें दूर दूर से लोग देखने आ रहे हैं.

मरने के बाद वापिस जिंदा होने के बाद ये बजुर्ग परलोक की कहानी सुना कर सबको हैरानी में डाल रहा है. मिली जानकारी के अनुसार फिरोजाबाद जिला मुख्यालय से थोड़ी दूरी पर बसे एक गांव मुख रामपुर के एक बुजुर्ग की दास्तां इन दिनों सुर्खियां बटोर रही है. यहां के रहने वाले ज्ञान सिंह ने लोगों को आश्चर्य में डाल दिया है. ज्ञान सिंह ने दुनिया के सामने एक ऐसा रहस्य लाकर रख दिया है जिसके बारे में कोई सपने में भी नहीं सोच सकता. ज्ञान सिंह के चर्चा बटोरने का कारण उनकी मौत का विषय है.

आपको हम बता दें कि 2 दिन पहले ही सांस रुकने के कारण ज्ञान सिंह की मृत्यु हो गई थी परंतु वह अभी जिंदा है. अब आप सोच रहे होंगे कि भला कोई मरा हुआ व्यक्ति जिंदा कैसे हो सकता है? तो दोस्तों आपकी जानकारी के लिए हम आपको बता दें कि अचानक हुई मौत के बाद ज्ञान सिंह के घर वाले उनके अंतिम संस्कार की तैयारियां कर रहे थे. जब वह बुजुर्ग को जलाने के लिए श्मशान घाट ले जाने लगे तो उन्होंने उसके शरीर में कुछ हलचल महसूस की.

अचानक से मुर्दे को हिलता हुआ देखकर वहां मौजूद लोग काफी डर गए. मगर गांव के ग्रामीण नेपाल सिंह ने बताया कि शायद ज्ञान सिंह में जान फिर से लौट आई है. जिसके कुछ सेकंड बाद ही ज्ञान सिंह उठ खड़े हुए और उन्होंने मौत के बाद का दृश्य वर्णन सबके सामने किया. ज्ञान सिंह ने बताया कि मरने के बाद 2 लोग उन्हें घसीट कर ले जा रहे थे. परंतु उन्हें जहां ले जाना था वहां उन्हें किसी कारण घुसने नहीं दिया गया.

इसके बाद जब उन्होंने वापस लौटने से मना किया तो उन्हें गर्म लकड़ी से पीटा गया और साथ ही उनके ऊपर उबलता हुआ पानी डाल दिया गया. वहीं एक रिपोर्ट के अनुसार ज्ञान सिंह के घर वालों का कहना है कि यमराज के दूत किसी और व्यक्ति के धोखे में ज्ञान सिंह को ले गए परंतु अभी ज्ञान सिंह का समय बाकी था इसलिए उन्हें वापस भेज दिया गया.