इसमें कोई दोराय नहीं कि देश हो या विदेश, लेकिन टैलेंट हर जगह देखने को मिलता है. वैसे भी हमारे देश में टैलेंट की कमी नहीं है और दूसरी तरफ टैलेंट की कोई सीमा भी नहीं होती. इसे जितना दबाने की कोशिश की जाए, ये उतना ही निखर कर सामने आता है. इसके इलावा टैलेंट को दुनिया के सामने दिखाने की कोई उम्र भी नहीं होती. जी हां आज कल तो एक छोटे से और मासूम से बच्चे में भी टैलेंट कूट कूट कर देखने को मिलता है. हालांकि आज कल इंटरनेट का जमाना है और इसी वजह से हर स्कूल में कंप्यूटर का ज्ञान भी उतना ही जरुरी हो गया है. जी हां अगर हम ये कहे कि आज के समय में कंप्यूटर एक जरूरी विषय बन चुका है, तो कुछ गलत नहीं होगा.

 

यकीन मानिये इस लड़की की हैंड राइटिंग देख कर आप भी यही कहेगे कि जैसे इसने अपने हाथो से न लिख कर किसी कंप्यूटर के जरिये लिखा है और उसक प्रिंट आउट निकाला है. जी हां इस लड़की की हैंड राइटिंग ही इतनी खूबसूरत है, कि कोई भी धोखा खा जाएगा. बता दे कि प्रकृति फ़िलहाल आठवीं क्लास में पढ़ती है. गौरतलब है कि वो नेपाल के सैनिक आवासीय महाविद्यालय में पढ़ती है.

बरहलाल आपको जान कर ताज्जुब होगा कि इनकी हैंड राइटिंग देख कर बड़े बड़े लोगो के भी पसीने छूट जाते है. हालांकि अच्छी हैंड राइटिंग होने के अपने ही कई फायदे है. जैसे कि इससे सामने वाले व्यक्ति पर आपका अच्छा इम्प्रेशन पड़ता है. इसके इलावा टीचर्स भी खुश होकर ज्यादा मार्क्स दे देते है. वही अगर प्रकृति की बात करे तो उसने बहुत मेहनत करके अपनी हैंड राइटिंग को ऐसा बनाया है.

जी हां प्रकृति के रिश्तेदारों का भी कहना है कि वो हर रोज दो घंटे इसकी प्रैक्टिस करती है. जिसके चलते आज उसकी हैंड राइटिंग इतनी अच्छी हो गई है.

क्‍योंकि आजकल हर जगह सारा काम कम्प्यूटर से होने लगा है और अब बच्‍चे भी ज्‍यादातर अपना काम कम्प्यूटर से कर लेते हैं। आप भी सोच रहे होंगे कि हम कहां कम्प्यूटर और टैलेंट का मतलब समझाने लगे तो आइए आपको बताते हैं कि ऐसा हम क्‍यो कह रहे। कहा जाता है कि इंसान की हैण्ड राइटिंग उसके करैक्टर का प्रमाण-पत्र होती हैं. हर इंसान चाहता है की उसकी हैण्ड राइटिंग दुनिया में सर्वश्रेष्ठ हो इंसान कितनी भी कोशिश कर ले पर कभी भी ऐसा नहीं लिखा पाता जिसे देख कर लगे की ये हैण्ड राइटिंग तो बिलकुल कंप्यूटर ने निकली कॉपी जैसा दिखती हैं |

हैण्ड राइटिंग देख कर लगता है की जैसे कंप्यूटर से लिखकर उसका प्रिंट आउट निकाला हो वो कहते है न “कौन कहता है आसमान में छेद नहीं होता, एक पत्थर तो तबियत से उछालों यारों” बस इसी कहावत को चरितार्थ किया है नेपाल की रहने वाली प्रकृति मल्ला ने इस लड़की की हैण्ड राइटिंग देख कर लगता है की जैसे इस बच्ची ने अपने हाथों से न लिखकर किस कंप्यूटर से लिखकर उसका प्रिंट आउट निकाला हो. प्रकृति अभी आठवी क्लास की स्टूडेंट है. वह नेपाल के सैनिक आवसीय महाविद्यालय में पढ़ती है. उनकी हैण्ड राइटिंग देखकर बड़ो-बड़ो को पसीने आ जाते हैं. |

अच्छी हैण्ड राइटिंग होने के कई फायदे है. अगर आपकी हैण्ड राइटिंग अच्छी हो तो आपका इम्प्रेशन सामने वाले व्यक्ति पर अच्छा पड़ता हैं. बल्कि टीचर्स भी यही कहते है की अच्छी हैण्ड राइटिंग वाले स्टूडेंट्स को एग्जाम में अच्छे मार्क्स भी मिलते है. प्रकृति ने काफी मेहनत करके अपनी हैण्ड राइटिंग को ऐसा बनाया है. प्रकृति के रिश्तेदारों का कहना है की वो रोजाना दो घंटे हैण्ड राइटिंग प्रैक्टिस करती थी, जसकी बदौलत उसकी हैण्ड राइटिंग आज इस काबिल हुई हैं.